पूर्व प्रधानमंत्री स्व इंदिरा गांधी की पुण्य तिथि और सरदार पटेल की जयंती के मौके पर जिला कांग्रेस कमिटी में दी गई श्रद्धांजलि

सिटी न्यूज़ नालंदा । रविवार को जिला कांग्रेस कार्यालय राजेन्द्र आश्रम में देश के दो महान विभूतियों पूर्व प्रधानमंत्री भारतरत्न आइरन लेडी स्वर्गीय इंदिरा गाँधीजी की पुण्यतिथि एवं भारतरत्न लौह पुरुष स्वर्गीय बल्लभ भाई पटेलजी की जयन्ती मनाई गई सर्वप्रथम दोनों के तैल चित्र परमाल्यार्पण एवं पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी गई उसके पश्चात एक विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया विचार गोष्ठी के दौरान दोनों की जीवनी एवं उनके द्वारा किए गए कार्यों पर चर्चा करते हुए जिलाध्यक्ष दिलीप कुमार ने कांग्रेसियों को संबोधित करते हुए कहा कि आज संयोग से हमारी पार्टी के दो महामानवों का जयन्ती एवं पुण्यतिथि है जिन्हें पूरा देश लौह पुरुष एवं लौह महिला के नाम से जानते हैं पटेल साहब ने देश की आज़ादी में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी सन 1928 भारतीय स्वाधीनता संग्राम के दौरान उस समय की प्रांतीय सरकार ने किसानों के लगान में एकाएक 30% की वृद्धि कर दी थी सरदार पटेल ने इस लगान वृद्धि का जमकर विरोध किया था एवं उस समय एक सत्याग्रह जिसका नाम बारडोली सत्याग्रह था जिसका नेतृत्व पटेल साहब ने किया था वे झुके नहीं और अंत में उस समय की सरकार को उनके सामने झुकना पड़ा था आज़ादी के बाद देश के पहले उप प्रधानमंत्री एवं गृह मंत्री का दायित्व सम्भालने के बाद उन्होंने अपनी सुझ बुझ और कर्मठता से देश के 562 देसी रियासतों को जिसका क्षेत्रफल भारत का 40% था उसे एक कर भारत की मुख्य धारा में जोड़ने का काम समझा बुझाकर किए थे शिर्फ तीन रियासतों जम्मू एवं कश्मीर ,जूनागढ़ और हैदराबाद स्टेट को छोड़कर सभी ने इनकी बात मानी अंत में इन तीनों पर भी बल प्रयोग कर उसे भी अपनी ताकत का लोहा मनवा कर आजाद भारत का हिस्सा बनवाए थे ऐसे कई उदाहरण हैं जिन्हें शब्दों में बयान नही किया जा सकता सकता है लेकिन होनी को कुछ और ही मंज़ूर था उन्हें सन 1950 में ही काल ने हमलोगों के बीच से छीन लिया आज कुछ दिन अगर और पटेल साहब हमलोगों के बीच रहते तो देश की दशा कुछ और होती आज जो हमारे किसान अन्नदाता दर दर की ठोकरें खा रहे हैं नौजवान भटक रहे हैं यह देखने को नही मिलता पटेल साहब किसानों और नौजवानों के सच्चे हितैषी थे ठीक इन्हीं की तरह लौह महिला स्व इंदिराजी ने भी अपने कार्यकाल में बहुत ही साहसिक कार्य किए जिसे शब्दों में बयाँ नहीं किया जा सकता है तीन बार देश की प्रधानमंत्री बनीं 1977 में जब कांग्रेस पूरी तरह से टूट चुकी थी सत्ता से बेदख़ल हो गयी थी फिर भी इन्दिरा जी ने हिम्मत नहीं हारीं और अकेले अपने दम पर 1980 में फिर से सत्ता में वापस आयीं उन्होंने देश की महिलाओं के लिए कई कार्य किए इसी का नतीजा था की इसी बिहार की धरती से महिलाओं ने आवाज़ उठाया था की आधी रोटी खाएँगें लेकिन फिर से इन्दिरा गाँधी को ही लाएँगें और उसी नारा का फलादेश 1980 के चुनाव में देखने को मिला की इन्दिरा जी फिर से प्रधानमंत्री बनीं उनके अदम्य साहसी कार्यों में अमृतसर का आपरेसन ब्लू स्टार भी काफी साहसी कार्य रहा जिसमें खलिस्तान उग्रवादियों को समाप्त कर देश को टूटने से बचाने का कार्य उन्होंने किया था उस समय अगर वह निर्णय नहीं ले पातीं तो आज देश कई भागों में बँट चुका होता भले ही उस नेक कार्यों के चलते ही सन 1984 में प्रधानमंत्री रहते भर में उनकी हत्या हो गयी हो लेकिन उनके द्वारा दिया गया अंतिम भाषण आज भी भारतवासियों के ज़ेहन में घूमता है की मैं जीवित रहूँ या ना रहूँ लेकिन मेरे शरीर का एक एक खून का बूँद कतरा एक एक हिंदुस्तान को जीवित रखेगा अंत में अभी कांग्रेसियों ने उनके बताए रास्ते पर चलने की बचनबद्धता दुहराई इस अवसर पर राजगीर के पूर्व विधायक रवि ज्योति कुमार उपाध्यक्ष जितेन्द्र प्रसाद सिंह नव प्रभात प्रशांत जमिल अशरफ जमाली मो जेड इस्लाम कोषाध्यक्ष तारा चंद मेहता अजीत कुमार सोसल मिडिया अध्यक्ष उदय कुशवाहा महिला अध्यक्ष संजू पांडे अल्पसंख्यक अध्यक्ष कैप्टन शाहिद फ़रहत जविं अफ़सा युवा उपाध्यक्ष मो शहाम हुसैन मो उशमान गनी अधिवक्ता अताउद्दिन हाफ़िज़ महताब राहुल राज गुरुसहाय प्रसाद सोमदत्त पांडे के अलावे बहुत सारे कांग्रेसी मौजूद थे।।

Related posts